Monday 2nd August 2021

आर्सेलर मित्तल और सेल ऑटोमोटिव संयुक्त उद्यम पर बातचीत के लिए बैठक बातचीत सफल रही संयुक्त उद्यम अनुमानित समयसीमा में पूरा होने की राह पर

Aug 31st, 2016 9:38 am | By | Category: LATEST NEWS

Screenshot_20160831-151348

आर्सेलर मित्तल ने 30 अगस्त, मंगलवार को आर्सेलर मित्तल और सेल के प्रस्तावित 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर के ऑटोमोटिव स्टील संयुक्त उद्यम के संबंध में विमर्श के लिए, भारत के केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह, सेल अध्यक्ष पी के सिंह और भारत सरकार के इस्पात मंत्रालय के संयुक्त सचिव सुनील बड़थ्वाल का अपने लंदन कार्यालय में स्वागत किया। आर्सेलर मित्तल के अध्यक्ष और सीईओ लक्ष्मी मित्तल, समूह सीएफओ श्री आदित्य मित्तल और आर्सेलर मित्तल की तरफ से संयुक्त उद्यम के संवाद का नेतृत्व करने वाले आर्सेलर मित्तल के कार्यकारी उपाध्यक्ष एवं वैश्विक ऑटोमोटिव के प्रमुख ब्रेन ई. अरन्हा ने अन्य वरिष्ठ प्रबंधन के साथ बैठक में भाग लिया। आर्सेलर मित्तल और सेल, भारत में एक संयुक्त उद्यम के जरिए अत्याधुनिक ऑटोमोटिव स्टील विनिर्माण सुविधा की स्थापना की संभावना को खोजने के लिए मई 2015 एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया था। इस प्रस्तावित संयुक्त उद्यम से ऑटोमोटिव स्टील के विनिर्माण के लिए विश्वस्तरीय सुविधाओं का विकास होगा, जिससे भारत में तेज गति से वृद्धि कर रहे ऑटोमोटिव क्षेत्र के लिए तकनीकी रूप से उन्नत इस्पात उत्पादों की आपूर्ति की जा सकेगी। प्रस्तावित ऑटोमोटिव स्टील सुविधा के लिए हॉट रोल्ड इनपुट उत्पादों की आपूर्ति सेल के ओडिशा स्थित राउरकेला संयंत्र के नए अत्याधुनिक हॉट स्ट्रिप मिल से की जाएगी, इससे पूरी वैल्यू प्रक्रिया आंतरिक होगी। \समझौता ज्ञापन की प्रक्रिया पर नज़र बनाए रखने के लिए, परियोजना के संयुक्त कार्य समूह ने परियोजना के संभावयता रिपोर्ट (एफआर) के अधिकतम हिस्से को पूरा कर लिया है। मौजूदा लगभग 3 मिलियन इकाई सवारी गाड़ियों के अगले दस सालों में 7 मिलियन से भी अधिक हो जाने के अनुमान के साथ, भारत के 2026 तक तीसरे सबसे बड़े ऑटोमोबाइल विनिर्माण देश के तौर उभरने की संभावना है। ऑटोमोटिव डिमांड के बढ़ते स्तर को पूरा करने के लिए, और भारत को वैश्विक विनिर्माण हब में परिवर्तित करने के लिए डिज़ाइन किए गए भारत सरकार के “मेक इन इण्डिया” कार्यक्रम के द्वारा समर्थित, ऑटोमोटिव उत्पादक, देश में अपनी और अधिक उपस्थिति सुनिश्चित कर रहे हैं।

Government News

Comments are closed.